Bijay Jain
भारत को भारत ही बोला जाए Quit INDIA From Constitution दिल्ली कार्यक्रम ६ से १३ अगस्त २०२१
Bijay Jain
भारत को भारत ही बोला जाए Quit INDIA From Constitution दिल्ली कार्यक्रम ६ से १३ अगस्त २०२१
Bijay Jain
भारत को भारत ही बोला जाए Quit INDIA From Constitution दिल्ली कार्यक्रम ६ से १३ अगस्त २०२१
Bijay Jain
भारत को भारत ही बोला जाए Quit INDIA From Constitution दिल्ली कार्यक्रम ६ से १३ अगस्त २०२१
Bijay Jain
भारत को भारत ही बोला जाए Quit INDIA From Constitution दिल्ली कार्यक्रम ६ से १३ अगस्त २०२१
Bijay Jain
भारत को भारत ही बोला जाए Quit INDIA From Constitution दिल्ली कार्यक्रम ६ से १३ अगस्त २०२१
previous arrow
next arrow

NEW UPDATES

Slide
PlayPlay
Slide
PlayPlay
Slide
PlayPlay
Slide
PlayPlay
Slide
PlayPlay
Slide
PlayPlay
Slide
PlayPlay
Slide
PlayPlay
Slide
PlayPlay
Slide
PlayPlay
Slide
PlayPlay
Slide
PlayPlay
Slide
PlayPlay
Slide
PlayPlay
Slide
PlayPlay
previous arrow
next arrow
Slide
Slide
Slide
Slide
Slide
Slide
Slide
Slide
Slide
Slide
Slide
Slide
Slide
Slide
Slide
previous arrow
next arrow

GdigiWorld- Web development/designing

Mumbai Greenaries-Gardening services

Jinagam Foundation ngo-Free neem tree plantation

हमारी वैबसाइट पर आपका स्वागत है

बिजय कुमार जैन

श्री बिजय कुमार जैन ने अपने साढ़े तीन दशक के पत्राचार में एक बात को बहुत गंभीरता से अनुभव किया कि विदेशी दासता से ७० साल के निर्वासन के बाद भी, भरत की कोई संवैधानिक राष्ट्रभाषा नहीं है। श्री जैन का दृढ़ मत है कि ‘हिंदी’ भारत की सार्वभौमिक राष्ट्रीय भाषा की आधिकारिक भाषा है।
श्री बिजय कुमार जैन ने कई सामाजिक कार्य किए हैं और समाज सेवा के लिए प्रमुख परियोजनाओं पर काम कर रहे
हैं।
-हिंदी भारत की राष्ट्रीय भाषा बन गई
-साथ ही राजस्थानी भाषा
-पर्यावरण के लिए -जीनगम फाउंडेशन एनजीओ – नि: शुल्क नीम का वृक्षारोपण-
-शिक्षा के लिए शिक्षा

जैन साधु-श्रावक एकता मंच

११ मई २०१४ को अंधेरी वेस्ट में शांतिवाड़ी आश्रम में 'जैन साधु-श्रावक एकता मंच' की पहली बैठक आयोजित की गई, जिसमें निम्नलिखित निर्णय लिए गए:
सबसे पहले, बैठक की शुरुआत सभी उपस्थित सदस्यों ने 'नमोकार मंत्र' के साथ की। श्री चन्द्र प्रभु जैन पाश्चर शताब्दी ट्रस्टी, महेंद्र हस्तीमल परमार जैन ने कहा कि बिजय कुमार जैन द्वारा Eव् जैन एकता ’के लिए त्aल्हम्प् महावीर जन्म कल्याणक पर्व’ पर शुरू किया गया अभियान इस पवित्र भूमि पर शुरू हुआ। और अब जो ग्े भिक्षु- सम्मेलन ’विशाल सरकार कर रही है, उसे भी भारी समर्थन मिलेगा। श्री संपत सेठी जैन ने कहा कि प्ल् साधु सम्मेलन’ का आयोजन Eव् जैन एकता ’के लिए एक मील का पत्थर साबित होगा, जिसके लिए मैं समर्पण और समर्पण के साथ और 'जैन एकता' के साथ समर्पण के बजाय, श्रावकों की बजाय, जो निस्वार्थ भाव से सेवा करते हैं, जिन लोगों की सरकार इसमें शामिल होनी चाहिए, ऐसे लोगों को ही मंच में शामिल किया जाना चाहिए।

हिंदी कल्याण ट्रस्ट

राष्ट्रभाषा के सम्मान के लिए बिजय जैन के निर्देशन में देश के प्रमुख ने, हिंदी ’शहरों जैसे मुंबई, कोलकाता, दिल्ली, लखनऊ, भोपाल, हैदराबाद, चेन्नई, चंडीगढ़ से मुलाकात की, भुवनेश्वर, गुवाहाटी आदि में बैठकों का आयोजन किया गया जिसमें बड़ी संख्या में शामिल हुए। हिंदी साहित्यकार, भाषा प्रेमी और पत्रकारों ने भी हिस्सा लिया, मीडिया के वरिष्ठ व्यक्ति सभी की ओर से उत्साहजनक प्रतिक्रियाएं दे रहे थे, यह सभी के लिए नहीं था कि 'हिंदी' भाषा संवैधानिक थी और सभी मीडिया को एक साथ मिल जाने के संकल्प का स्वागत है मान्यता। ऐतिहासिक घटना होगी। महात्मा गांधीजी की पुण्यतिथि पर ३० जनवरी, २०१७ को दिल्ली स्थित राजघाट से, श्री जैन ने अपने प्रयास को जारी रखते हुए, भारत सरकार से एक अनुरोध किया था कि भारत संवैधानिक सम्मान राष्ट्रीय भाषा ‘हिंदी’ को दिया जाए।
भारत के राष्ट्रपति, प्रधान मंत्री, मुख्यमंत्रियों, सांसदों, संपादकों, पत्रकारों, भाषाविदों और लेखकों का समर्थन भी मिला, ये कारवाँ यहीं नहीं रुके, इसके बाद भी ५ जनवरी, २०१७ को राष्ट्रीय भाषा अभियान की सफलता, तेरापंथ भवन भुवनेश्वर, हिंदी साहित्य सम्मेलन कार्यालय, नई दिल्ली, १ ९ जनवरी २०१,, असम राष्ट्रीय भाषा समिति गुवाहाटी, २२ जनवरी २०१,, प्रेस क्लब चंडीगढ़, २२ जनवरी, २०१ २०१७, राजघाट में ३० जनवरी २०१, को विधानसभा ६, २०१७, मुंबई नगर निगम, मुंबई, ४ मार्च, २०१७, बंगका कॉलेज, मुंबई, १६ मार्च २०१७ साठे कॉलेज, विले पार्ले, २३ मारवाड़ी पब्लिक लाइब्रेरी, ०७ मार्च, २०१७, प्रेस क्लब रायपुर १४ मई, २०१७, जून को १ग्ह्, २०१ न्न्, विन्ध्य-द्विवेदी ज्ञानपीठ इंदौर, २६ से ३० सितंबर को पहली बार, मुंबई ने २४ भारतीय भाषाओं का विश्व स्तरीय 'भारतीय भाषा मेला' आयोजित किया है, जिसका उद्घाटन गोवा की राज्यपाल श्रीमती मृदुला सिन्हा ने किया था। ६ जनवरी २०१८ को ३ डी अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन। कलकत्ता में, जैन को-प्रथम भाषा-भाषा और फिर राष्ट्रभाषा ’सुने बिना मंच पर आने की जिम्मेदारी उठानी पड़ी। यह कहा जाता है मानव जीवन में जुनून होनी चाहिए, सफलता चरणों चुंबन, १०-११ पर 'भारतीय भाषा सम्मेलन जनवरी २०१८ का आयोजन मुंबई विश्वविद्यालय, जो नागालैंड के राज्यपाल श्री द्वारा किया गया करने के लिए संस्कृति के २२ संस्कृति लाकर । झ्ँ टीचर ने किया।
हिंदी भाषा यात्रा: आतंकवाद से ज्यादा आतंक अंग्रेजी के किसी भी देश को खत्म करने के लिए, उसकी भाषा को खत्म करने के लिए पर्याप्त है, भाषा को खत्म करने के बाद आप अपनी संस्कृति को कैसे बचाएंगे? आज भारत में अंग्रेजी का आतंक आतंकवाद से ज्यादा है। यह राय एम.एल. गुप्ता (राष्ट्रभाषा समिति, राष्ट्रभाषा विभाग) ने व्यक्त किया कि, मुंबई से जारी भारतीय भाषा सम्मान २५ दिसंबर, २०१८ को पुणे में महावीर प्रतिष्ठान में पहुंचा, पुणेवासियों ने यात्रा का स्वागत किया। आयोजक वरिष्ठ पत्रकार महावीर प्रतिष्ठान में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में। और संपादक बिजय कुमार जैन ने सवाल किया कि हमारे देश में राष्ट्रगान, राष्ट्रीय पक्षी और राष्ट्रीय मुद्रा है, फिर राष्ट्रभाषा घोषित क्यों नहीं की गई? वह जल्द ही सरकार से हिंदी प्राप्त करेंगे जल्द ही आधिकारिक रूप से राष्ट्रभाषा घोषित करने की मांग की। स्थापना में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस के संयोजक महावीर विजय भंडारी ने कहा कि यह मुद्दा बहुत महत्वपूर्ण है और इसकी मांग पूरे देशवासियों के माध्यम से होनी चाहिए। और यह काम तब तक जारी रहेगा जब तक हमारी हिंदी भाषा को ठराष्ट्रभाषाठ के रूप में सम्मानित नहीं किया जाता है।

हम सामाजिक कार्यों के लिए योगदान करते हैं
नीम लगाओ पर्यावरण बचाओ (जिनगम फाउंडेशन)

५ जून विश्व पर्यावरण दिवस पर, महापौर ने हिंदी सेवा और प्रधान संपादक बिजय कुमार जैन द्वारा आमंत्रित aस् जिनगाम फाउंडेशन ’द्वारा आयोजित वृक्षारोपण कार्यक्रम का उद्घाटन बुधवार ५ जून को विश्व पर्यावरण दिवस के रूप में किया, विश्वनाथ महेश्वर का कर समर्पण उनके बंगले के द्वारा, मेयर के मेयर के व्यस्त उत्साह के बावजूद, वृक्षारोपण कार्यक्रम पूरा किया, और मेयर ने सभी से आग्रह किया कि जीवन केवल पेड़ों से है और प्रत्येक व्यक्ति को अपने जीवनकाल में १ पेड़ लगाना चाहिए। निर्धारित किया जाना चाहिए और उनकी संतानों के लिए भी देखभाल की जानी चाहिए, इसके बाद, इस कार्यक्रम का अगला पड़ाव जेबी बाला साहब शहर में स्थित था, जहां पूर्व निगम पार्षद सुभाष सावंत और आने वाले हर व्यक्ति की मदद से नीम के पांच पेड़ लगाए गए थे बगीचे में वहाँ पूर्ण समर्थन का वादा किया और कहा कि पेड़ के जीवन को बचाकर हम अपने भविष्य की रक्षा करेंगे। साथ में वे सभी शपथ लेते हैं कि हम अपने बच्चों की परवाह करते हैं उसी तरह, हम भी इस पेड़ को खिलाएंगे, हम हर दिन पानी पिलाएंगे।

आपनो राजस्थानी कार्यक्रम (जिनागम फाउंडेशन)

मुंबई २८-३० मार्च २०१५ को मुंबई की पवित्र भूमि पर राजस्थान डायस्पोरा ने, यू राजस्थान ’कार्यक्रम का आयोजन किया, जिसमें हजारों लोगों ने अपनी उपस्थिति नहीं देखी, कार्यक्रम की सराहना की, r मेरा राजस्थान’ संस्था की स्थापना का मुख्य कारण हैं। दुनिया में की जाने वाली ऐसी कई चीजें, विभिन्न राजनीतिक संस्थानों को जोड़ने, एक दूसरे में समर्पण की भावना पैदा करने, समन्वय, व्यापार, संगठन-एकता आदि का विस्तार करने के लिए, ताकि हम राजस्थानी की एक संगठित पहचान बन जाएं और हम कह रहे हैं कि राजस्थानीष्ठ यह कहा जाता है कि राजस्थानी केवल व्यापार करता है, यह केवल पैसे के पीछे चलता है, लेकिन ऐसा नहीं है, अगर हम राजस्थान के इतिहास को देखें, तो हमें पता चलेगा कि राजस्थानी ने न केवल अपने काम के माध्यम से पैसा कमाया है, बल्कि हमने ऐसा बहुत कुछ किया है पूरी दुनिया में सामाजिक कार्य। भारतीय संस्कृति का सम्मान, न केवल राजस्थान में, बल्कि पूरे विश्व में, लेकिन हमने अपने द्वारा किए गए कार्यों का प्रसार नहीं किया, जिसकी आज के युग में आवश्यकता है जबकि अन्य भारतीय समाज १ काम करता है और १०० लोग कहते हैं, जबकि हम राजस्थान में १०० काम करते हैं। और एक भी मत कहो।

राजस्थानी भाषा मानस यात्रा

१९ जुलाई २०१५ की सुबह मुंबई में स्थित पहला राजस्थानी समाज का पवित्र प्रांगण, जिसे १९४७ में स्थापित किया गया था, जो स्वामी लक्ष्मीनारायण जी के मंदिर पर स्थित है, जहाँ यात्रा की सफलता के लिए यज्ञ आयोजित किया गया था, दिलीप पंडित जी ११ पंडित एस / श्री दिलीप, सुनील, जय प्रकाश, लोकेश, अवनीश, सूर्यमणि, राकेश, दिनेश, बीरेंद्रजी, पिंटू, वाया राशि द्वारा संचालित किया गया, इस यात्रा के आयोजक, बिजय कुमार जैन और धर्मप | संतोष जैन, राजस्थानी फिल्मी दुनिया के पसंदीदा दीया-बाती प्रसिद्ध धारावाहिक नीलू और अरविंद कुमार, उद्योगपति पन्नालाल डागा (कोलकाता), फिल्म निर्माता अशोक बाफना और धर्मपत्नी, उद्योगपति विनोद मोरवाल और धर्मपत्नी सावित्री मोरवाल,रामवतार तनीवाला और धर्मपत्नी अचिन्तिवति अचिन्त्य पुजारी राजस्थान पटियाला एसोसिएशन कमेटी, पटवी राजेंद्र बारहट, उदयपुर, राजस्थान सेवा संघ। नगर अध्यक्ष और कुलपति श्री विनोद टिबड़ेवाल, श्री इन्दकुम्पाटोडिया, श्री अनिल प्रेमचंद केडिया, श्री ओमप्रकाश गोयनका, श्री संतोष कुमार गुप्ता, श्री सुनील धरनी धारका, श्री मदन सरावगी, श्री राधेश्याम शर्मा, श्री अनूप हिम्मतरामका, श्री मान मोहन बागड़ी, प्रिंसिपल वलेचा मैडम, श्रीमती समदानी, डॉ। भगवती दाधीच, फिल्म कलाकार विक्की हाड़ा, प्रभु चौहान, भाषा पहचान 'रथ' को फिल्म निर्माता जतिन अग्रवाल और राजस्थानी भाषा मान्यता के नारों के साथ विदाई दी गई। अन्य। यात्रा में, बगदका के कॉलेज के छात्रों ने नए रूप लिए और ट्रकों में बैठकर प्रसिद्ध समाजसेवी नंदू पोद्दार और नगरसेविका सुमन कोठारी द्वारा स्थानीय लोगों द्वारा राजस्थान के नाम से प्रसिद्ध मीरा-भयंदर पहुंचे। स्थानीय लोगों द्वारा पुष्प और माल्यार्पण कर स्वागत किया गया।

यात्रा से शुरू होता है: 
मीरा-भायंदर -न १९ जुलाई, २०१५ -न वापी, १९ जुलाई, २०१५ -न सूरत, १९ जुलाई, २०१५ -न अंकलेश्वर, २० जुलाई २०१५ -न वडोदरा, २० जुलाई, २०१५ -न अहमदाबाद, २० जुलाई, २०१५, न बछीवाड़ा २१ जुलाई २०१५ -न राजसमंद २१ जुलाई २०१५ -न सेवक शहीदी स्थल, उदयपुर, २२ जुलाई २०१५ -न जोधपुर, २२ जुलाई २०१५ -न डोंगरपुर, २३ जुलाई २०१५ -न नागौर, २३ जुलाई २०१५ – भरतिया स्कूल, लक्ष्मणगढ़, २३ जुलाई २०१५ -न करणी माताजी का देशवार मंदिर, २४ जुलाई, २०१५ -्न बीकानेर २४ जुलाई, २०१५

G-digi world free computer classes

Module 1:  Technology skills

  • Operating system
  • Word-processing skills
  • The electronic document: spreadsheet
  • The key to perfect E-presentation
  • Data management skills
  • IT system maintenance
  • IT networking and cyber security
  • Emails, search engine and Web application
  • Learning advanced mobile technology

Module 2:  Soft skills

  • Emotional intelligence
  • Attitude and Altitude
  • Interpersonal skills
  • Stress management
  • Business Etiquette
  • Voice and accent speaking
  • Interviews and group dynamics
  • Leadership

Module 3:  Communication skills

  • The power of communication
  • Language & linguistic communication
  • Public relations
  • Mastering the art of public speaking
  • Paraverbal skills
  • Corporate communication
  • Body language
  • Breaking the ice berg : Fear
  • Overcoming communication barriers

Module 4:  Management skills

  • Achieving success by management skills
  • Pyramid of management skills
  • Strategic thinking
  • Marketing management
  • Managerial accounting
  • Customer relationship management
  • Guidance by top level management experts

Module 5: Select anyone specialised course from below

  • Certified course in travel and tourism             
  • Certified course in Event management
  • Certified course in Retail management
  • Certified course in Taxation
  • Certified course in computer teachers training
  • Certified course in cleaning and forwarding agent

OUR WORK

Bijay Kumar Jain

Committed To The Community

Scroll to Top